साल 2020 को तबाह करने में कोरोना वायरस ने कोई कसर नहीं छोड़ी थी लोगों के लिए यह साल एंजायटी, डिप्रैशन, अकेलापन, लॉकडाउन, बीमारी और मौत का साल रहा है लेकिन लोगों ने उम्मीद और खुश रहना बिल्कुल नहीं छोड़ा इसकी गवाही शुक्रवार को जारी की गई 149 देशों की वर्ल्ड हैप्पनेस रिपोर्ट दे रही है

रिपोर्ट के मुताबिक कोरोना महामारी का स्तर लोगों की उम्मीद और उत्साह को हिला नहीं पाया है और कई देशों में कोरोना की तबाही के बावजूद भी लोग खुशहाल जिंदगी जीने का प्रयास कर रहे हैं

यूएन सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन नेटवर्क के द्वारा आयोजित इस वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार दुनिया के सबसे खुशहाल देशों की सूची में फिनलैंड ने लगातार चौथी बार पहला स्थान प्राप्त किया है। इसके अलावा लगातार आठ पायदानों  तक यूरोपीय देशों का ही कब्जा है लिस्ट में दूसरे स्थान पर डेनमार्क, तीसरे पर स्विट्जरलैंड, चौथे पर आइसलैंड, पांचवें पर नीदरलैंड, छठे पर आइसलैंड, सातवें पर नॉर्वे, आठवें पर स्वीडन और नौवें पर लग्जमबर्ग है

वहीं भारत इस सूची में 139वें स्थान पर हैं पिछले साल भारत का स्थान 140वां था अगर भारत के पड़ोसी देशों की बात करें तो पाकिस्तान इस लिस्ट में 105वें स्थान पर है वहीं नेपाल 87 वें, बांग्लादेश 108वें, मैनवार 126वें और श्रीलंका 129वें स्थान पर है।

इस सर्वे में लोगों से दो अलग-अलग तरह के सवाल किए गए थे। जिसमें से पहला सवाल उनके सामान्य जीवन से जुड़ा हुआ था। वहीं दूसरा सवाल मूड, इमोशंस, स्ट्रेस और एंजाइटी से संबंधित था।