ओडिशा के आदिवासी बहुल मयूरभंज जिले में एक महिला पुलिस अधिकारी को उसके क्रूर व्यवहार के आरोप में निलंबित कर दिया गया। महिला कर्मी पर आरोप है कि हेलमेट चेकिंग के दौरान गर्भवती महिला को जानबूझ कर भीषण गर्मी में 3 किमी पैदल चलने को मजबूर किया। जिले के एसपी ने दुर्व्यवहार और अपने कर्तव्य को ठीक से न निभाने के आरोप में यह करवाई की है। 


ए एन आई के मुताबिक मयूरभंज एसपी के एक आदेशानुसार, सब इंस्पेक्टर रीना बक्सल को 28 मार्च से तत्काल प्रभाव के लिए निलंबित कर दिया गया है। रीना के सहायक उप - निरीक्षक के रूप में बीड़ी दस्मोहापत्रा को पुलिस स्टेशन का प्रभार दिया गया है। 


रिपोर्ट के मुताबिक 27 वर्षीय गर्भवती महिला गुरुबरी अपने पति विक्रम के साथ बाइक पर उड़ाला के अस्पताल अपने स्वास्थ्य जांच के लिए जा रही थी, इसी दौरान पुलिसकर्मी ने उन्हें रोक लिया। हालांकि विक्रम ने तो हेलमेट पहना था लेकिन उसकी गर्भवती पत्नी ने हेलमेट नहीं पहना था। विक्रम ने जब बताया की उनकी पत्नी ने स्वास्थ्य कारणवश हेलमेट नहीं पहना है तो पुलिस ने उसकी बात को नजरअंदाज करते हुए ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन के लिए मोटर व्हीकल एक्ट के तहत जुर्माना लगा दिया।


न्यू इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार विक्रम अपना जुर्माना भरने को तैयार था, हालांकि वो अपने साथ इतने नकद पैसे नहीं लाया था। विक्रम ने ऑनलाइन पैसे देने का अनुरोध किया लेकिन पुलिस अधिकारी ने उसकी बात नहीं सुनी और विक्रम को पुलिस वाहन में पुलिस स्टेशन ले जाया गया और उनकी पत्नी 3 किमी पैदल चल कर पुलिस स्टेशन पहुंची। जब तक विक्रम के माता पिता नकद लेकर नहीं पहुँचे तब तक उसे हिरासत में रखा गया।