तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष व पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक ऐसा बयान दिया है जिसको लेकर वह बीजेपी सहित तमाम दल के सीधे निशाने पर आ गई हैं। दरअसल एक सभा के दौरान ममता बनर्जी ने अपना गोत्र बताया जिसके बाद ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी और बीजेपी मंत्री समेत तमाम विरोधी दल उन पर निशाना साध रहे हैं। 

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा, "मैंने मंदिर का दौरा किया जहां पुजारी ने मेरा गोत्र पूछा। मैंने कहा मां, माटी, मानुष। यह मुझे त्रिपुरा के त्रिपुरेश्वरी मंदिर की याद दिलाता है, जहां पुजारी ने मुझसे मेरा गोत्र पूछा और मैंने माँ, माटी, मनुष्य कहा था। वास्तव में मैं शांडिल्य हूँ।" इसी बयान के बाद ममता सभी राजनीतिक दलों के निशाने पर हैं। 

ममता बनर्जी के इस बयान पर AIMIM अध्यक्ष ओवैसी ने ट्वीट कर कहा, 'मेरे जैसे लोगों का क्या होना चाहिए? जो ना तो शांडिल्य हैं और ना ही जनेऊधारी।' उन्होंने आगे लिखा, 'हमारे जैसे लोग जो किसी एक भगवान के भक्त भी नहीं, ना ही हम चालीसा पढ़ते हैं, ना ही एक मार्ग पर चलते हैं, उनका क्या होगा? हर पार्टी को लगता है कि उसे जीतने के लिए हिंदू कार्ड दिखाना होगा। यह अनैतिक, अपमानजनक है और इसका सफल होना मुश्किल है।'

वहीं बीजेपी नेता व केंद्र मंत्री गिरिराज सिंह ने भी ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा की ममता बनर्जी को हार का डर सताने लगा है इसलिए वह गोत्र कार्ड का इस्तेमाल कर रही है। उन्होंने आगे कहा, 'मुझे तो कभी गोत्र बताने की ज़रूरत नहीं पड़ी, मैं तो लिखता हूँ। लेकिन ममता बनर्जी चुनाव हारने के डर से गोत्र बताती हैं। ममता बनर्जी अब आप मुझे यह बता दीजिए कि कहीं रोहिंग्या और घुसपैठियों का गोत्र भी शांडिल्य तो नहीं है। उनका हारना तय है।"