4 अगस्त को टोक्यो ओलंपिक में भारत का चौथा पदक पक्का हो गया है। पहलवान Ravi Kumar Dahiya  सेमीफाइनल मैच में कजाकिस्तान के नुरिसलाम सनायेव को हराकर फाइनल में पहुँच गए हैं । इसी के साथ रवि ने देश के लिए मेडल पक्का कर दिया है. अब उनकी नजर गोल्ड पर है। भारत के तेरहवें दिन की शुरुआत शानदार रही| पहले देश के दिग्गज भाला फेंक खिलाड़ी नीरज चोपड़ा ने फ़ाइनल में प्रवेश किया वहीं दूसरी ओर लगातार तीन मैचों को जीतकर फ़ाइनल में जगह बना ली| हालांकि महिला टीम अपना सेमीफाइनल मैच नहीं जीत पाई, लेकिन उसके पदक की उम्मीद बची हुई है|  


नीरज ने पहले ही थ्रो में 83.50 के क्वालिफिकेशन मार्क को पार करते हुए दिन की शानदार शुरुआत की। उन्होंने अपना थ्रो 86.65 मीटर पर फेंका, जो क्वालिफिकेशन ग्रुप ए में सबसे लंबा निशान था। इसके अलावा कुश्ती में दीपक पूनिया और रवि कुमार ने अपने-अपने भार वर्ग जीतकर सेमीफाइनल में जगह बनाई | बाद में 


देश को सेमीफाइनल मुकाबले में अपनी युवा महिला मुक्केबाज लवलीना बोरगोहेन से भी काफी उम्मीदें थीं। लेकिन उन्हें तुर्की के नंबर 1 मुक्केबाज बुसेनाज सुरमेनेली के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा। अब उन्हें ब्रॉन्ज मेडल से ही संतोष करना होगा। लवलीना ओलंपिक में भारत के लिए कांस्य पदक जीतने वाली तीसरी मुक्केबाज बन गई हैं|