भारत के रवि दहिया ने टोक्यो ओलंपिक की कुश्ती मैट पर पुरुषों के 57 किलोग्राम वर्ग में स्वर्ण पदक की उम्मीदें जगा दी हैं। दूसरी ओर, भारत के दीपक पूनिया पुरुषों के 86 किग्रा वर्ग में अंतिम दांव नहीं लगा सके। वह अमेरिकी पहलवान के खिलाफ कुछ ही मिनटों में अपना मैच हार गए। अमेरिकी पहलवान ने भारत के दीपक पूनिया के खिलाफ तकनीकी श्रेष्ठता के आधार पर 10-0 से जीत दर्ज की।

वहीं, महिलाओं के 57 किग्रा वर्ग के पहले मैच में 19 वर्षीय अंशु मलिक यूरोपीय चैंपियन बेलारूस की इरिना कुराचिकिना से 2-8 से हार गईं। अंशु की वापसी अब इस बात पर निर्भर करेगी कि कुराचिकिना कहां पहुंचती है। अगर वह फाइनल में पहुंचती है तो अंशु को रेपेचेज खेलने का मौका मिलेगा।

तकनीकी कौशल के दम पर अल्जीरिया के अब्देलहक खेरबाख को हराने वाले वेंगलोव के खिलाफ दहिया ने अपनी शानदार फॉर्म को जारी रखते हुए शुरू से ही दबाव बनाए रखा।

चौथी वरीयता प्राप्त भारतीय पहलवान ने उरबानो के खिलाफ मैच में अपने दाहिने पैर पर प्रतिद्वंद्वी पर बार-बार हमला किया और पहले दौर में 'टेक-डाउन' से अंक गंवाने के बाद मैच पर हावी रहे।

गत एशियाई चैंपियन दहिया ने तब मैच में एक मिनट और 10 सेकंड के साथ 13-2 से जीत दर्ज की। भारतीय पहलवान ने दूसरी अवधि में पांच टेक-डाउन से अंक एकत्रित करते हुए अपनी तकनीकी ताकत दिखाई।

वहीं, 86 किग्रा वर्ग में नाइजीरियाई पहलवान के पास ताकत थी, लेकिन पूनिया के पास तकनीक थी और वह भारी थी। हालांकि, उन्हें लिन के खिलाफ परेशानी का सामना करना पड़ा। उन्होंने 3-1 की बढ़त ले ली, लेकिन लिन ने 3-3 से वापसी की, रेफरी ने दीपक को थ्रो के लिए दो अंक दिए, लेकिन चीनी पहलवान ने इसे चुनौती दी और सफल रहे।

दस सेकंड के बाद, पूनिया ने लिन के नीचे से प्रवेश किया, उसके पैर पकड़ लिए और उसे दो अंकों के साथ मैच जीतने के लिए हवा में उछाल दिया। अब उनका सामना 2018 वर्ल्ड चैंपियन अमेरिका के डेविड मौरिस टेलर से होगा।