119 दिनों से किसान आंदोलन पर बैठे हैं और उनका कहना है, तब-तक बैठे रहेंगे जब तक उनकी मांगें पूरी नहीं हो जाती हैं। उन्हीं मांगों को लेकर आज किसानों ने संपूर्ण भारत बंद का ऐलान किया है। कृषि बिल का विरोध कर रहे किसानों को आज दिल्ली के अलग-अलग सीमाओं पर विरोध करते हुए 4 महीने पूरे हो गए हैं।

बंद के दौरान रेल सड़क परिवहन प्रभावित होने की भी संभावना है, आम लोगों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। 

किसानों का प्रदर्शन सुबह 6:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक रहेगा। संयुक्त किसानों मोर्चा ने लोगों से शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन को सफल बनाने की गुजारिश तथा ज्यादा से ज्यादा लोगों को आंदोलन में शामिल होने का आह्वान किया है। किसानों का  मानना है कि इस प्रदर्शन में गांव कस्बे तथा शहरों तक के लोग शामिल होंगे।                  

हालांकि किसानों का यह आंदोलन पांच चुनावी राज्यों में नहीं होगा। किसान चाहते हैं कि जिस भी राज्य में चुनाव हैं वहाँ के किसान और आम जनता अपना विरोध मतदान के दिन सरकार के विरुद्ध मतों का प्रयोग कर करें। 

आपको बता दें कि किसान 3 कृषि कानूनों के खिलाफ यह प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान नेताओं का कहना है कि जब तक सरकार उनकी मांगे नही मान लेगी तब-तक वह ये आन्दोलन वापस नहीं करेंगे। किसानों द्वारा सरकार पर यह दवाब बनाने के प्रयास है। किसान संगठनों और सरकार के बीच कई वार्ताएं बेनातीजा रही हैं  पिछले काफी समय से किसान के संयुक्त मोर्चा और सरकार के बीच बातचीत बंद है। 

आंदोलन 4 महीनों से दिल्ली कि समाओं पर चल रहा है जो एक दो बार उग्र भी नज़र आया पर फिलहाल आंदोलन शांतिपूर्ण चल रहा है। आंदोलन के उग्र होने के कारण किसानों के इस आन्दोल कि छवि भी खराब हुई है। खेती किसानी का समय है ओर किसानों की जरूरत खेतों को ज्यादा है शायद इन्हीं सब कारणों कि वजह से आंदोलन में भीड़ कमी है। नौजवान किसान खेती संभाल रहें हैं, बुजुर्ग और महिलाओं ने मोर्चा संभाल रखा है। 

दिल्ली के बॉर्डरों पर किसान गर्मी से बचने के रास्ते तलाश रहे हैं। किसान सीमाओं पर पक्के इंतजाम में जूटे हुए हैं, कहीं फूँस ओर सरकंडे कि छतें डाली जा रही हैं तो कहीं ईंट गारे कि दीवार खाड़ी कि जा रही हैं। बॉर्डरों पर एक अलग ही नजर है एन एच पर गाँव बस रहे हैं। इन्हीं सब के बीच किसान अपने आंदोलन को विस्तार दे रहे हैं ओर किसान देश में अलग अलग जगहों पर किसान महापंचयतों का आयोजन हो रहा है और आज किसनों कि कॉल पर भारत बंद है।