देश भर में कोरोना के बढ़ते कहर से एक बार फिर बीता समय वापस लौट रहा है जहां सभी चीजें धीरे धीरे साल भर पहले की तरह नजर आ रही है। एक बार फिर अब अदालत घर से चलेगी। कोरोना ने सुप्रीम कोर्ट के 50 फीसदी लोगों को अपनी चपेट में लिया। जिसके बाद फैसला लिया गया कि अब सभी न्यायधीश अपने घर से ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए हर केस की सुनवाई करेंगे। इस दौरान सुप्रीम कोर्ट को सैनिटाइज किया जाएगा। 

देश में कोरोना की बेकाबू लहर जारी है जो कि हर दिन नया रिकॉर्ड बना रही है। सुप्रीम कोर्ट में कुछ दिनों पहले ही अदालत को पूरी तरह से खोलने पर विचार किया जा रहा था अगर ऐसा हो जाता तो कोर्ट भी संक्रमितो की संख्या की बढ़ोतरी में अपनी अहम भूमिका निभा जाता। हाल ही में कोरोना की स्थिति जब काबू में थी तब साहस करके सुप्रीम कोर्ट में अदालत के दरवाजे खोले थे किंतु स्थिति जब एक बार फिर बेकाबू हो रही है तब कोर्ट वापस से वीडियो कांफ्रेंसिंग सुनवाई पर लौट आई है।

सुप्रीम कोर्ट में 10 अप्रैल के दिन 90 कर्मचारियों ने अपना कोविड टेस्ट कराया था जिसमें से 44 कर्मचारी कोविड पॉजिटिव पाए गए है। इतना ही नहीं क्लर्क और काफी स्टाफ भी पॉजिटिव पाए गए है। जिससे सुप्रीम कोर्ट में डर का माहौल बना हुआ था। इससे पहले भी कई न्यायाधीश कोरोना की चपेट में आए थे लेकिन एक समय अंतराल के बाद जल्द ही वो ठीक हो गए थे।