कोरोनावायरस के बढ़ते संकट को देखते हुए भारत सरकार ने सीबीएसई बोर्ड परीक्षाओं को लेकर बड़ा फैसला सुनाया है। जिसके तहत सीबीएसई 12वीं की परीक्षाओं को टालने व दसवीं की परीक्षाओं को रद्द करने का ऐलान किया गया है। यह फैसला बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी, शिक्षा मंत्री और मंत्रालयों के अधिकारियों के बीच हुई बैठक में लिया गया।

आदेश के अनुसार CBSE 12वीं की परीक्षाएं जो 4 मई से 14 जून तक होने वाली थी उन्हें फिलहाल के लिए रद्द कर दिया गया है और 1 जून को एक और बैठक होगी जिसमें तब के हालात को मद्देनज़र रखते हुए आगे का फैसला लिया जाएगा। जिसके तहत अगर परीक्षाएं होती है तो  छात्रों को 15 दिन पहले सूचित किया जाएगा।

वहीं CBSE 10वीं की परीक्षाओं को पूरी तरह से रद्द कर दिया गया हैं। यह परीक्षाएं भी 4 मई से 14 जून के बीच होने वाली थीं। जिसके बाद बोर्ड की ओर से छात्रों को ओवरऑल परफॉर्मेंस के आधार पर नंबर दिए जाएंगे। लेकिन इसके बाद भी अगर कोई छात्र-छात्रा अपने नंबर से खुश नहीं होता है तो उसे बाद में परीक्षा देने का मौका भी मिलेगा। 

सूत्रों के अनुसार अधिकारियों की ओर से दसवीं और बारहवीं दोनों की ही परीक्षाओं को टालने का प्रस्ताव दिया गया था। लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि कोरोना की वज़ह से बच्चों को पहले ही काफी नुकसान हो गया है। ऐसे में दसवीं की परीक्षाओं को पूरी तरह से रद्द कर दिया जाएगा, जबकि 12वीं की परीक्षाओं को टाला जाएगा।

आपको बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्विटर के जरिए परीक्षाओं को टालने के फैसले का स्वागत किया हैं। वही दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि सरकार को दोनों ही परीक्षाएं  रद्द कर देनी चाहिए थी, लेकिन अभी जो फैसला लिया गया है वह भी मौजूदा हालात के हिसाब से बिल्कुल ठीक है।