कई राज्यों की तरह ही राजस्थान में भी कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने के लिए सरकार ने लॉकडाउन के हथियार को अपनाने का फैसला किया है। राज्य में 10 मई सुबह 5:00 बजे से 24 मई सुबह 5:00 बजे तक पाबंदियां लागू रहेगी। वहीं 31 मई 2021 तक विवाह समारोह पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है। इसकी घोषणा मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मंत्रिपरिषद की बैठक के बाद की है।


राज्य में कोरोना संक्रमण के लगातार बढ़ रहे कहर को रोकने के लिए सरकार ने महामारी रेड अलर्ट  अनुशासन पकवाड़ा चलाया । लेकिन बावजूद इसके संक्रमण के आंकड़ों पर काबू पाया नहीं जा पा रहा था। इसके बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने बुधवार को मुख्यमंत्री निवास पर राज्य मंत्री परिषद की बैठक बुलाई। इस बैठक में राज्य में कोरोना संक्रमण की चेन को तोड़ने और इस महामारी से लड़ने के लिए सख्त कदम उठाए जाने के लिए पांच मंत्रियों की एक समूह का गठन किया है।


मंत्री समूह ने गुरुवार को अपनी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपी, जिसमें सख्त कदम उठाने के साथ लॉकडाउन लगाने का सुझाव भी दिया गया था। इसके बाद गुरुवार रात को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में एक बार फिर बैठक बुलाई गई और रिपोर्ट में दिए गए सुझावों पर विचार किए गए, जिसके बाद पूरे राज्य में लॉकडाउन लगाने की घोषणा कर दी गई।


बता दें कि राजस्थान में कोरोना संक्रमण के मामले 6 लाख के पार पहुंच गए हैं। अब तक राज्य में कुल 6,85,036 लोग इस महामारी की चपेट में आ चुके हैं। वहीं पिछले 24 घंटों में आई संक्रमित लोगों की संख्या 16,815 बताई जा रही हैं। अगर मौत के आंकड़ों पर नज़र डाली जाए तो राज्य में अब तक कोरोना से 5,021 लोगों जान गवा चुके हैं।