किसान दिल्ली की सीमाओं पर 46 दिनों से अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं। इसी बीच हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल कैमला गांव में रैली निकालने पहुंचे।  किसानों ने मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर की रैली का विरोध किया। रैली के विरोध को लेकर किसानों और पुलिस के बीच झड़प हुई।  किसानों को रोकने का प्रयास किया गया, लेकिन वह नहीं माने और मुख्यमंत्री की रैली का विरोध करते रहे। हंगामा इतना बढ़ गया कि पुलिस ने  किसानों पर आंसू गैस के गोले दागने शुरू किए, साथ ही वाटर कैनन भी चलाएं।

दरअसल, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्‌टर करनाल के कैमला गांव में किसान महापंचायत रैली करने की तैयारी में थे। प्रशासन की तरफ से रैली को लेकर कड़े इंतजाम मुख्यमंत्री की सुरक्षा के लेकर किए गए थे। गढ़ी सुल्तान के पास पुलिस ने नाकाबंदी कर रखी थी। यहां आगे बढ़ रहे किसानों को पुलिस द्वारा रोकने का प्रयास किया गया। जब किसान नहीं माने तो पुलिस ने उन पर लाठियां बरसानी शुरू कर दी। उसके बाद भी ना मानने पर  पुलिस ने किसानों पर आंसू गोलों के साथ साथ वाटर कैनन भी चलाई।

आंदोलनकारी किसान हेलीपैड और रैली स्थल तक पहुंच गए। किसानों ने हेलीपैड को  तोड़ दिया। प्रदेश भाजपा प्रमुख ओम प्रकाश धनखड़ के साथ किसानों की जमकर बहस भी हुई। फिलहाल, खराब मौसम का हवाला देकर मुख्यमंत्री के रैली निकालने का कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है।