विशेषज्ञ समिति ने वैक्सीन को मंजूरी दे दी है। अब ड्रग कंट्रोलर ऑफ इंडिया की औपचारिक मंजूरी की आवश्यकता होगी।

रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लोवरोव, जिन्होंने हाल ही में भारत का दौरा किया था, और  कहा था कि रूसी पक्ष ने कोविद -19 एंटी-स्पुतनिक वी वैक्सीन के 10 करोड़ से अधिक  खुराक के उत्पादन के लिए भारतीय कंपनियों के साथ कई अनुबंध किए हैं। अब इस टीके को मंजूरी दे दी गई है।

भारत बायोटेक द्वारा बनी कोविड वैक्सीन और ऑक्सफोर्ड एस्ट्राजेनेका का कोविशिल्ड वैक्सीन 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को दिया जा रहा है।

Covishield और Covaxin दोनों सरकारी अस्पतालों में नि: शुल्क प्रदान किए जा रहे हैं। निजी अस्पताल में वैक्सीन लगाने के लिए 250rs  प्रति खुराक का शुल्क लिया जा रहा है। सरकार, सीरम इंस्टीट्यूट और भारत बायोटेक को 150 रुपये प्रति डोज दे रहे है।

यह अभी तक स्पष्ट नहीं है कि भारत में स्पुतनिक वी की कीमत कितनी होगी। अन्य देशों में जहां इसे आनुमती दिया गया है, इसकी कीमत 10$  प्रति खुराक से कम है। सर्गेई लोवरोव, जिन्होंने हाल ही में भारत का दौरा किया था, और कहा था कि रूसी पक्ष ने कोविद -19 एंटी-स्पुतनिक वी वैक्सीन के 10 करोड़  से आधिक खुराक के उत्पादन के लिए भारतीय कंपनियों के साथ कई अनुबंध किए हैं। अब इस टीके को मंजूरी दे दी गई है।  हैदराबाद की डॉ. रेड्डी लैब्स मे स्पुतनिक वी का साथ मिलकर ट्रायल किया है । डॉ रेड्डी लैब्स ने 10 करोड़ खुराक बनाने के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है । इसके अलावा, आरटीआईएफ ने हेटेरो बायोफार्मा, ग्लैंड फार्मा, स्टेलिस बायोफार्मा, विक्ट्री बायोटेक से 85 करोड़ खुराक बनाने के लिए भी करार किया है। कंपनी ने अपने ट्रायल के आंकड़ों को साझा करते हुए कहा कि स्पुतनिक वी कोरोना के खिलाफ जंग मे 91.6 फीसदी कारगर साबित होने का दावा किया है।    

इस वैक्सीन के अनुमोदन के साथ, वैक्सीन उपयोगकर्ताओं के लिए एक और टीका उपलब्ध कराया गया है, जो कोरोना के खिलाफ टीकाकरण अभियान को गति देने में मदद करेगा।

हाल ही में, कंपनी के सीईओ, एपीआई और सेवा, दीपक सपरा ने कहा, आप पहली खुराक लेने के बाद 21 वें दिन दूसरी खुराक लेंगे। टीका के 28 वें और 42 वें दिन के बीच प्रतिरक्षा विकसित होगी।