प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीकली रेडियो प्रोग्राम मन की बात का 28 मार्च को 75 एडिशन पूरे हो चुके हैं। इसी खुशी में अपने आज के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री ने सबसे पहले मन की बात सुनने वाले लोगों का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा 2014 का वो समय था जब मन की बात प्रोग्राम शुरू किया गया था और एक आज यह अपने 75 संस्करण पूरे कर चुका है। ऐसा लगता है जैसे कल की ही बात हो जब इसे शुरू किया गया था। इस प्रोग्राम के जरिए हमने कई मुद्दों पर चर्चा की व समाधान निकाला है। 


पुरानी बातों को याद करते हुए प्रधानमंत्री 22 मार्च 2020 को लगे जनता कर्फ्यू की बात करते हैं। इन्हीं सब के बीच लॉकडाउन, थाली बजाना, ताली बजाना और दिया जलाने की घटनाओं को भी याद करते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा साल भर पहले का हाल कुछ ऐसा था कि सबके मन में कोरोना की वैक्सीन को लेकर कई सवाल थे, जैसे की क्या कोरोना की कोई वैक्सीन आएगी और कब तक आएगी और आज साल भर बाद पूरे विश्व में भारत सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान चला रहा है। यह भारत के लिए गर्व की बात है। 


उन्होंने मन की बात में यह भी कहा कि भारत को कृषि क्षेत्र में आधुनिकीकरण की जरूरत है। इससे कृषि में रोजगार बढ़ेगा और किसानों की आय में बढ़ोतरी होगी। गौरतलब है की ये बातें प्रधानमंत्री तब कह रहे है जब पिछले नवंबर से ही किसान उनके बनाए कृषि कानूनों के विरोध में अपना घर बार छोड़ दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर डेरा डाले हैं। प्रधानमंत्री ने देश में नारी शक्ति की बात करते हुए हाल ही में इंटरनेशनल क्रिकेट में 10 हजार रन बनाने वाली दुनिया की दूसरी और भारत की पहली महिला क्रिकेटर मिताली राज की बात करते हैं, साथ ही वनडे मैच में मिताली राज 7 हजार रन स्कोर करने वाली दुनिया में इकलौती महिला क्रिकेटर हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा की मन की बात की 75वीं कड़ी तक हम लोगो ने एक दूसरे से काफ़ी कुछ सीखा है।