देश में कोरोना की बढ़ती रफ्तार के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज ली। इस बात की जानकारी खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर के दी। उन्होंने कहा कि मैंने आज दिल्ली एम्स में वैक्सीन की दूसरी डोज ली। इसके साथ ही उन्होंने पात्र लोगों से वैक्सीन की 2 जिले की अपील करते हुए कहा कि टीकाकरण वह एक तरीका है जिससे हम इस वायरस को हरा सकते हैं। 


प्रधानमंत्री मोदी को कोरोना वैक्सीन ' कोवैक्सिन' की दूसरी डोज़ पंजाब की नर्स निशा शर्मा ने दी। दूसरा डोज लेने के समय उनके साथ पुडुचेरी की रहने वाली सिस्टर पी निवेदा भी मौजूद थीं। प्रधानमंत्री ने जब वैक्सीन की पहली डोज़ ली थी तब भी पी ले लेगा उनके साथ मौजूद थे। वीडियो से बात करते हुए नर्स निशा शर्मा ने कहा कि " आज सुबह मुझे पता चला की प्रधानमंत्री को वैक्सीन की दूसरी डोज देनी है। हमें उनसे मिलकर बहुत अच्छा लगा, उन्होंने यह भी पूछा कि आप कहां से हैं इसके बाद उन्होंने थोड़ी देर बात की और साथ ले फोटो ली, मुझे गर्व है कि पीएम मोदी से मिलने का मौका मिला"।

देश में कोरोना  के बढ़ते रफ्तार के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना के वैक्सीन की दूसरी डोज ली। इस बात की जानकारी खुद पीएम मोदी ने ट्वीट कर के दी। उन्होंने कहा कि मैंने आज दिल्ली एम्स में वैक्सीन की दूसरी डोज ली। इसके साथ ही उन्होंने पात्र लोगों से वैक्सीन की 2 जिले की अपील करते हुए कहा कि टीकाकरण वह एक तरीका है जिससे हम इस वायरस को हरा सकते हैं। 


प्रधानमंत्री मोदी कोरोना वैक्सीन ' कोवैक्सिन' की दूसरी डोर पंजाब की नर्स निशा शर्मा ने दी। दूसरा डोज लेने के समय उनके साथ पुडुचेरी की रहने वाली सिस्टर पी निवेदा भी मौजूद थीं। प्रधानमंत्री ने जब वैक्सीन की पहली डोज़ ली थी तब भी सिस्टर पी निवेदा उनके साथ मौजूद थीं। वीडियो से बात करते हुए नर्स निशा शर्मा ने कहा, " आज सुबह मुझे पता चला कि प्रधानमंत्री को वैक्सीन की दूसरी डोज देनी है। हमें उनसे मिलकर बहुत अच्छा लगा, उन्होंने यह भी पूछा कि आप कहां से हैं इसके बाद उन्होंने थोड़ी देर बात की और साथ ले फोटो ली, मुझे गर्व है कि पीएम मोदी से मिलने का मौका मिला"।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री ने 1 मार्च को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज ली थी। उस दिन वह अचानक नई दिल्ली स्थित एम्स पहुंच गए थे और कोवैक्सीन लगवाई थी। पुडुचेरी की रहने वाली सिस्टर पी निवेदा ने उन्हें कोरोना वैक्सीन की पहली डोज दी थी।