पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का कहर बरपा है। वायरस के संक्रमण के बारे में लोग अचंकित हैं । जिसकेे  चलतेे  भारत सहित कही देशों मै सख्त पाबंदिया लगाई जरही है, तो इधर कुछ लोग वायरस को 'गलत डर' मान रहे हैं और वे न केवल अपनी नादानियो से अपनी जान गंवा रहे हैं, बल्कि दूसरों की जान भी जोखिम में डाल रहे हैं। ऐसे बहुत से लोग मानते हैं कि कोरोना जैसा कोई वायरस नहीं है।

ऐसा ही एक मामला नॉर्वे में सामने आया है जहां एक शख्स को कोरोना का मजाक उड़ाना महंगा पड़ गया। इस शख्स ने केवल अपनी जान नहीं गंवाई, बल्कि मरने से पहले उसने कई लोगों की जान को खतरे में डाल दिया।

जानकारी के अनुसार, नॉर्वेजियन हैंस क्रिश्चियन गार्डनर ने कोरोना का मज़ाक उड़ाया और वायरस के बारे में लगातार झूठी और भ्रामक खबरों के कारण चर्चा में रहे, उन्होंने दावा किया कि उनके घर पर कुछ दिन पहले दो पार्टियां हुई थी और इन पार्टियों में कई लोग जो कोरोना पॉजिटिव थे उन्हें बुलाया गया। गार्डनर ने विभिन्न सोशल मीडिया चैनलों के साथ-साथ 2020 में अमेरिकी चुनाव के बारे में भ्रामक समाचारों के माध्यम से कोरोना वायरस महामारी से संबंधित झूठी जानकारी फैलाई। 28, 29 मार्च को उन्होंने पार्टी आयोजित किया और 6 अप्रैल को उनकी कोरोना से मृत्यु हो गई। इस वजह से कोरोना संक्रमण कई लोगों में फैल गया।

जैसे ही पुलिस को इस पार्टी के बारे में पता चला, एक प्रेस विज्ञप्ति जारी की गई। पुलिस ने कहा, 'हम नहीं जानते कि पार्टी में कितने लोग शामिल हुए लेकिन सभी को जल्द से जल्द कोरोना टेस्ट कराने के लिए कहा गया है।'   

जॉन्स हॉपकिन्स विश्वविद्यालय के अनुसार, वर्तमान में दुनिया भर में 141.1 मिलियन से अधिक कोरोना मामले हैं, जबकि 3.01 मिलियन से अधिक लोगों कि मौत हो गई है। अमेरिका 567,217 मौतों के साथ दुनिया में सबसे अधिक मौतों वाला देश है और भारत संक्रमण के मामले में दुनिया में दूसरे स्थान पर पहुंच गया है।