नीरज चोपड़ा ने टोक्यो ओलंपिक में एथलेटिक्स में भारत का पहला ओलंपिक स्वर्ण पदक जीता है।  नीरज अभिनव बिंद्रा के बाद ओलंपिक स्वर्ण जीतने वाले दूसरे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं।  उन्होंने फाइनल में 87.58 मीटर भाला फेंक में स्वर्ण पदक जीता।  वह पूरे मैच में नंबर एक पर रहे।  इससे पहले वह क्वालीफिकेशन में ही नंबर एक पर रहे थे और साथ ही फाइनल के लिए क्वालीफाई भी किया था।

ग्रुप ए और ग्रुप बी को क्वालिफिकेशन में रखा गया था।  ग्रुप ए के साथ नीरज ओवरऑल टॉप पर था, जबकि ग्रुप बी में पाकिस्तान के अरशद नदीम टॉप पर थे। वह समग्र योग्यता में तीसरे स्थान पर रहे।

माना जा रहा था कि फाइनल में नीरज चोपड़ा को उनसे कड़ी टक्कर मिल सकती थी। पाकिस्तानी खिलाड़ी ने भी शानदार प्रदर्शन किया और टॉप 5 में बना रहा, लेकिन वह नीरज के स्कोर के करीब भी नहीं पहुंच पाया।  नीरज और अरशद के बीच मैदान पर हमेशा अच्छी लड़ाई होती रहती है।  

टोक्यो में भी पाकिस्तानी खिलाड़ी ने अपने करियर का तीसरा सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया और 84.62 के थ्रो के साथ 5वें स्थान पर रहे।  मैच में एक समय वह चौथे स्थान पर पहुंच गए थे।  इस साल इमाम रजा कप में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा।  उस दौरान उन्होंने 86.38 मीटर थ्रो किया था.  वहीं, 2019 में हुए साउथ एशियन गेम्स में उन्होंने 86.29 मीटर का थ्रो किया था।