मध्य प्रदेश मे कोरोना के काले बादलों ने बुरी तरह घेर रखा है। तेज़ी से बढ़ रहे संक्रमण के मामले हालातों को बेकाबू कर रहे हैं। बहुत लोगों को अपनी जान गवानी पड़ रही है। लेकिन इन मौतों को लेकर शिवराज सरकार के मंत्री प्रेम सिंह पटेल की कुछ अलग और अजीबोगरीब सोच है। एक बयान में उन्होंने कहा है कि लोगों की उम्र हो जाती है तो मरना भी पड़ता है।

दरअसल मंत्री प्रेम सिंह से मध्य प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले और उस से हो रही मौतों को लेकर सवाल किया गया था जिसके जवाब में उन्होंने कहा कि मौत हुई है और इसे कोई रोक नहीं सकता। राज्य में डॉक्टरों की व्यवस्था की गई है। लोगों को इलाज के लिए उनके पास जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा, जहां तक मौत का संबंध है तो लोगों को अपनी उम्र पूरी होने पर मरना पड़ता है।

बता दें कि प्रेम सिंह पटेल ने यह शर्मनाक बयान उस समय दिया है मध्य प्रदेश के कई जगहों से मौत की खबरें लगातार आ रही हैं। यही नहीं शिवराज सरकार पर विपक्ष द्वारा कोरोना से हो रही मौतों के आंकड़ों को छुपाने का भी आरोप लगाया गया है।

बुधवार को जबलपुर की चौहानी श्मशान घाट में 41 शवों का अंतिम संस्कार किया गया है, लेकिन प्रदेश के सरकारी स्वास्थ्य बुलेटिन, यह दावा कर रहा है कि शहर में केवल 5 व्यक्तियों की मृत्यु हुई है। सरकार के इस दावे का उल्टा जवाब, जबलपुर श्मशान घाट की वायरल वीडियो दे रही है, जिसमें नज़ारा कुछ और ही है। 

ऐसा ही कुछ स्थिति भोपाल और इंदौर के श्मशान घाट में भी देखी गई है। जहां मृतकों का अंतिम संस्कार करने के लिए लोगों को अपनी बारी का इंतजार करना पड़ रहा है। इसके विपरीत सरकार ने मौत के जो आंकड़े दिए हैं वह बहुत ही कम है।