भारत में छोटी – बड़ी सारी नदियों को मिलाकर करीब 200 से भी ज़्यादा नदियां यहां बेहती हैं। यहां हर नदियों कि आपनी एक अलग कहानी और मान्यता हैं।इतनी सारी नदियों में से कुछ नदियां ऐसी है जो यहां के लोगों के लिए एक अलग ही महत्व रखती हैं। इन नदियों में से कुछ नदियां पूजा – अर्चना से जुड़ी हुई हैं।आज हम आपको भारत में बहने वाली कुछ नदियों के बारे में बताएंगे और भारत के प्रमुख नदियों में से एक आती है गंगा। गंगा नदी भारत में सबसे पवित्र नदियों में से एक मानी जाती हैं। गंगा नदी हिमालय से निकलकर उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और बिहार से होते हुए बंगाल की खाड़ी में जा करके मिलती हैं। इस नदी के किनारे कई बड़े शहर मौजूद है जैसे कि पटना ,वाराणसी, इलाहाबाद आदि। अगर गंगा नदी की लंबाई की बात करें तो यह नदी 2525 किलोमीटर लंबी मानी जाती हैं। दरअसल गंगा नदी असल में अलकनंदा और भागीरथी का सम्मिलित नाम हैं। यह नदी समुद्र तल से करीब 3900 मीटर कि ऊंचाई पर हैं।


2. भारत कि 10 प्रमुख नदियों में एक गोदावरी भी है।गंगा नदी के समान ही गोदावरी नदी  भी पूजा – अर्चना के लिए प्रसिद्ध हैं।अगर इस नदी के लंबाई कि बात करे तो इस नदी कि लंबाई करीब 1464 किमी हैं।गोदावरी नदी महाराष्ट्र से होते हुए छत्तीसगढ़ , तेलंगाना, और आंध्र प्रदेश से होते हुए बंगाल कि खाड़ी से मिलती हैं।

3. तीसरी सबसे बड़ी नदी यमुना नदी हैं।हिमालय से निकाल कर इलाहाबाद में मिल जाती हैं। यमुना नदी गंगा नदी कि सबसे बड़ी सहायक हैं। इस नदी के किनारे कई राज्य है जिन मे दिल्ली , उत्तराखंड , उत्तरप्रदश आते हैं।इस नदी कि लंबाई 1376 किमी हैं।

4. चोथे नंबर पर नर्मदा नदी का नाम आता है इस नदी को मां रेवा के नाम से भी जाना जाता हैं।ये नदी समुंद्र से करीब 1,057 उचाई पर हैं। अगर बात इस के लंबाई कि करे तो ये 1312 किलोमीटर लंबी नदी हैं।

5. 5वे स्थान पर कृष्ण नदी का नाम आता हैं।ये नदी महाराष्ट्र में महाबलेश्वर से निकाल कर कर्नाटक और आंध्र प्रदेश में बहती हैं। इस नदी कि लंबाई 1400 किमी हैं। इस नदी का पानी लोग खीती के कामों के लिए भी प्रयोग करते हैं।

6. भारत कि सबसे बड़ी और पवित्र नदी में ब्रह्मपुत्र नदी का भी नाम शामिल हैं। मानसरोवर से निकलकर यह नदी अरुणाचल प्रदेश, असम से होते हुए बंगाल की खाड़ी में जा करके मिलती हैं। ब्रह्मापुत्र नदी अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग नामों से जानी जाती है जैसे कि चीन मे यरलुंग ज़ैगंबो जियांग , बांग्लादेश में यमुना नदी, अरुणाचल प्रदेश में दिहांग नदी। इस नदी की लंबाई की अगर बात करें तो 2900 किमी इसकी लंबाई हैं।

7. पवित्र नदियों में अगला नाम सरस्वती नदी का आता है जो एक प्राचीन नदी हैं। यह नदी शिवालिक पर्वतमाला हिमालय से निकलकर त्रिवेणी संगम में जाकर मिल जाती हैं। त्रिवेणी संगम इलाहाबाद में हैं। त्रिवेणी का मतलब तीन नदियों का संगम होता हैं। इस नदी की लंबाई लगभग 1600 किमी हैं। ये नदी भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान में भी बहती हैं।

8. भारत के प्रमुख नदियों में शिप्रा नदी का भी नाम शामिल हैं। ये नदी मध्य प्रदेश में बहने वाली एक प्राचीन नदियों में से एक हैं।इस नदी के किनारे हर 12 साल में कुंभ का उत्सव मनाया जाता हैं। इस नदी कि लंबाई 195 किमी हैं।

9. दक्षिण भारत में गंगा के नाम से प्रसिद्ध कावेरी नदी कर्नाटक और उत्तरी तमिलनाडु मे बहने वाली नदी हैं। गोदावरी और कृष्णा नदी के बाद ये तीसरी सबसे बड़ी नदी हैं।इस नदी कि लंबाई 772 किमी हैं।

10. कोसी नदी नेपाल में हिमालय से निकाल के बिहार में भीम नगर के रास्ते होते हुए भारत प्रज्वल में दाखिल होती हैं।इस नदी के कारण बाढ़ के समय काफी तबाही होती है इसलिए इस नदी को बिहार का अभिशाप कहा जाता हैं।इस नदी कि लंबाई 729 किमी हैं।