किसानों का कृषि कानूनों को लेकर विरोध कम होने की बजाय बढ़ता नज़र आ रहा है| विरोध के 18वें दिन किसानों ने दिल्ली कूच का ऐलान किया है| इससे पहले किसानों ने जयपुर दिल्ली हाइवे को बंद करने की चेतावनी दी थी जिसे लेकर किसानों ने ट्रैक्टर मार्च निकालकर दिल्ली कूच शुरू कर दिया है| किसान सरकारी आश्वासनों से संतुष्ट  नज़र नहीं आ रहे हैं| 6 दौरों की वार्ता से भी अभी तक ठोस हल नहीं निकला है| पुलिस द्वारा किसानों को रोकने के लिए भारी इंतेज़ाम किये गए हैं| हाईवे पर पुलिस ने बड़े बड़े पत्थर रखकर किसानों को रोकने की तैयारी की है| 

गौरतलब है कि किसान आंदोलन  अब राजस्थान के किसान भी इस आंदोलन से जुड़ रहे हैं |उन्होंने जयपुर हरियाणा बॉर्डर को घेरने की तैयारी कर ली है|  इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा दिए गए ताजा आश्वासनों  का भी कोई ख़ास असर होता दिखाई नहीं दे रहा है | किसानों का कहना है कि बातचीत तीनों कानूनों के निरस्त होने पर होगी| हालाँकि सरकार ने इसके लिए अपनी असमर्थता जता दी है | वहीँ दूसरी ओर किसानों ने 14 दिसंबर को भूख हड़ताल की धमकी  भी दी है | 

बताते चलें कि किसानों ने हाल ही में लागू हुए तीन कृषि कानूनों के विरोध में पिछले 18 दिनों से सिंघु बॉर्डर पर डटे हुए हैं| आंदोलन में अब पंजाब हरियाणा के अलावा अन्य राज्यों से भी किसान जुटने लगे हैं|