रियाणा में मेयर चुनाव में करारी हार झेलकर आलोचनाओं से घिरे मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बड़ा बयान दिया है| मनोहर लाल खट्टर ने कहा है कि अगर वह किसानों के लिए एमएसपी को सुनिश्चित नहीं करा पाए तो राजनीति से सन्यास ले लेंगे|
मुख्यमंत्री का यह बयान उस समय आया है जब हरियाणा के पांच निकाय चुनावों में से 3 चुनावों में बीजेपी को हार मिली है| आलोचक इसे किसानों के गुस्से का परिणाम बता रहे हैं| 

गौरतलब है कि हाल ही में हरियाणा के डिप्टी सीएम ने भी ऐसा ही कुछ बयान दिया था| हरियाणा के डिप्टी सीएम और जननायक पार्टी के अध्यक्ष दुष्यंत चौटाला ने हाल ही में कहा था कि वह किसानों के एमएसपी के पक्ष में हैं और उसके लिए प्रतिबद्ध हैं| अगर वह ऐसा नहीं कर पाए तो  पद से इस्तीफ़ा दे देंगे| यहां यह जानना दिलचस्प है कि केंद्र सरकार और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच अभी भी एमएसपी के मुद्दे पर सहमति नहीं बन पाई  है| 
बताते चलें कि हरियाणा के हाल ही में हुए मेयर चुनाव में 5 चुनावों में 3 ही सत्तारूढ़ पार्टी जीत पाई| इन 3 सीटों चुनावों में से दो चुनावों में  हिसार के उकलाना और रेवाड़ी के धारुहेरा में जीत मिली| ये दोनों सीटें जजपा की गढ़ मानी जाती हैं जो कि सत्तासीन हैं| वहीं सत्तासीन पार्टी सोनीपत और अम्बाला में भी मेयर का चुनाव हार गया है|