एनवी रमन्ना देश के 48 वें मुख्य न्यायाधीश होंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने नथुलपति वेंकट रमन्ना को भारत के मुख्य न्यायाधीश के रूप में चयन किया है। वह 24 अप्रैल से अपना कार्यभार संभालेंगे। इससे पहले मुख्य न्यायाधीश बोबडे ने सुप्रीम कोर्ट के दूसरे वरिष्ठ न्यायाधीश रमन्ना के नाम की सिफारिश की थी।


जस्टिस रमन्ना का जन्म आंध्र प्रदेश के कृष्णा जिले के पूनावरम गांव में 27 अगस्त 1957 को हुआ था। एलएलबी करने के बाद रमन्ना 10 फरवरी 1983 को एडवोकेट के रूप में पंजीकृत हुए। 27 जून 2000 को वह आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट में स्थाई न्यायाधीश के रूप में नियुक्त किए गए। 2 दिसंबर 2013 को दिल्ली हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस बनने के बाद जस्टिस रमन्ना 27 फरवरी 2014 को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश बने। 


वर्तमान न्यायाधीश बोबडे का कार्यकाल 23 अप्रैल को समाप्त होने वाला है। 

हालांकि रमन्ना दो साल के लिए ही मुख्य न्यायाधीश के पद पर रहेंगे क्योंकि 26 अगस्त 2022 को वह रिटायर होने वाले हैं। नियुक्ति प्रक्रिया में कॉलेजियम व्यवस्था के तहत मुख्य न्यायाधीश वर्तमान न्यायाधीश के कार्यकाल खत्म होने से एक महीना पहले अगले मुख्य न्यायाधीश का नाम केंद्र सरकार को देना होता है।