पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजे सत्तारूढ़ टीएमसी के पक्ष में थे, तो जश्न मनाने के बजाय राज्य बदले की भावना से जलने लगा। चुनाव परिणाम आने के बाद, हत्या की घटनाएं सामने आईं। यहाँ तक कि आरामबाग में भी भाजपा कार्यालय को जला दिया गया। कूचबिहार में भी हिंसा देखी गई। जिसकी हर कोई निंदा कर रहा है। भारतीय जनता पार्टी ने इन सभी घटनाओं के लिए ममता बनर्जी की पार्टी को जिम्मेदार ठहराया है। अब राजनीतिक हिंसा को लेकर भाजपा बुधवार 5 मई को देशव्यापी धरना-प्रदर्शन करेगी। हालांकि, उससे एक दिन पहले यानि आज भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा पश्चिम बंगाल पहुँच हैं।

जेपी नड्डा ने भाजपा कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाने के लिए पश्चिम बंगाल जाने का फैसला किया है। वह 4-5 मई को दो दिन बंगाल में रहकर हिंसा के शिकार लोगों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करेंगे। यह भी बताया गया है कि जेपी नड्डा के नेतृत्व में कोलकाता में एक बैठक भी आयोजित की जाएगी। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी अनिल बलूनी ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा तृणमूल सरकार के संरक्षण में हिंसा के तांडव के मद्देनजर स्थिति का जायजा लेने के लिए दो दिवसीय यात्रा पर मंगलवार को बंगाल में होंगे।

बीजेपी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, बंगाल में चुनाव परिणाम आने के बाद टीएमसी कार्यकर्ताओं द्वारा की गई हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों के जरिए आवाज उठाई जाएगी। 5 मई को, भाजपा देश भर में एक मंच पर बैठेगी। भाजपा ने यह भी कहा है कि कोविड के दिशानिर्देशों को ध्यान रखते हुए सभी मंडलों में विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

बता दें कि चुनाव परिणामों के 24 घंटे के भीतर, कई भाजपा कार्यकर्ता मारे गए थे। कई मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए। कई पार्टी कार्यकर्ताओं के घर और दुकान जला दिए गए। भाजपा के अनुसार, ममता बनर्जी की तृणमूल सरकार के शासन में अब तक 140 से अधिक भाजपा कार्यकर्ता मारे गए हैं। इसके बावजूद राज्य प्रशासन आँख मूँदे हुए है। चुनाव परिणाम के 24 घंटे के भीतर, कई भाजपा कार्यकर्ताओं की निर्मम हत्या की खबरें हैं।