देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड मामले की सुनवाई कर रहे जज ने पुलिस पर झूठे आरोप लगाने और अप्रिय घटना घटा ने की शंका जताई है। सुनवाई हटा के द्वितीय अपर सत्र न्यायालय में चल रही है। मामले की सुनवाई कर रहे हैं द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश ने अपने ऊपर भविष्य में झूठे इल्जाम लगाने और अपने साथ अप्रिय घटना की आशंका जताई है।

द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश ने एक आर्डर शीट में लिखा है कि जिस मामले की सुनवाई कर रहे हैं उसकी कार्यवाही उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर की जा रही है। मगर अभियुक्त अत्यधिक प्रभावशाली और राजनीतिक है। उनके खिलाफ माननीय जिला न्यायधीश महोदय को आवेदन कर चुका है। जिसे जिला न्यायधीश निर्मित पाया और आवेदन भी निरस्त कर दिया, लेकिन अब अभियुक्त एवं उसके साथ पुलिस के साथ मिलकर उनके खिलाफ झूठा और मनगढ़ंत दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं। द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश ने देवेंद्र चौरसिया हत्याकांड मामले को स्थानांतरित करने की अपेक्षा सत्र न्यायाधीश से जताई है।

मध्य प्रदेश सरकार के कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने स्थितियों को सामान्य बताया है और कांग्रेस पर पलटवार किया है और कहा हमने कभी किसी को संरक्षण नहीं दिया  न दिया जाएगा। मध्यप्रदेश में अपराधियों की जगह सींखचों के पीछे है यह सुनिश्चित होगा।

मामले में पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस विधायक तरुण भनोट ने कहा यह मुद्दा बहुत गंभीर है, अगर जज महोदय को लगता है उनकी जान को खतरा है। सरकार को कानून व्यवस्था की समीक्षा करनी चाहिए और विपक्ष के तौर पर हमने इस बात को सदन में उठाएंगे।