देश भर में बढ़ते कोरोना की स्थिति को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने 6 अप्रैल को प्रेस वार्ता रखी थी। केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने कोरोना से संबंधित कई मुद्दों पर बातचीत की। उन्होंने कहा देश भर के कुल कोरोना संक्रमितो में से 92 फीसदी लोग ठीक हो चुके हैं और लगभग 13 फीसदी लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है और 6 फीसदी नए कोविड मामले सामने आए हैं। 


राजेश भूषण ने महाराष्ट्र को कोविड का हॉटस्पॉट बताते हुए कहा कि पूरे देश के कुल संक्रमित मामलों में से अकेले महाराष्ट्र में 58 फीसदी मामले हैं और देश में दर्ज 13 फीसदी मौत का आंकड़ा केवल महाराष्ट्र से है। साथ ही कोरोना से हुई मृत्यु में पंजाब और छत्तीसगढ़ से सामने आए आंकड़े गंभीर चिंता का विषय हैं। गौरतलब है कि देश के केवल 10 जिलों ने संक्रमितो की संख्या को सबसे अधिक प्रभावित किया है। इन जिलों में सबसे अधिक कोरोना संक्रमित लोग पाए गए है। 10 जिलों में से केवल महाराष्ट्र के ही 7 जिले शामिल हैं, छत्तीसगढ़ और कर्नाटक के भी एक-एक जिले शामिल हैं और दिल्ली भी इस मामले में कहीं पीछे नहीं है।


केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने सभी के लिए टीकाकरण की बात को लेकर जवाब दिया कि टीकाकरण का मकसद ये बिलकुल नहीं है कि जिनकी क्षमता है वैक्सीन खरीदने की उन्हें पहले दी जाए। टीकाकरण का मकसद स्वास्थ्य व्यवस्था को बनाए रखना और जिन्हें जरूरत है उन्हे वैक्सीन पहले लगाना है। जिससे बढ़ते मौत के आंकड़ों पर काबू पाया जा सके।