कोरोना वायरस ने हरियाणा को पूरी तरह से अपनी चपेट में ले रखा है। जिस वजह से कई लोग हर रोज़ अपनी जान गवा रहे हैं। वहीं हरियाणा सरकार पर यह आरोप है कि वह कोरोना वायरस से संबंधित मौत के आंकड़ों से छेड़छाड़ कर रही है। इस पर आज हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने आरोपों को व्यर्थ बताकर उसे पूरी तरह से ख़ारिज कर दिया है।

हिसार में कल मनोहर लाल खट्टर ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा, 'हम जिस तरह की स्थिति में हैं। हम डेटा के साथ छेड़छाड़ नहीं करना चाहते हैं।' उन्होंने आगे कहा कि यह मुश्किल की घड़ी है और लोगों को बीमारी से लड़ने में मदद करनी चाहिए।

एक रिपोर्ट के मुताबिक राज्य के निजी अस्पताल में कोरोना संक्रमण से पांच लोगों की मौत हो गई, जिसका कारण अस्पताल अधिकारियों ने ऑक्सीजन की कमी बताई हैं। इस पर खट्टर ने जवाब देते हुए कहा, "हमें इस पर ध्यान देना चाहिए कि लोग कैसे ठीक हो सकते हैं। किसी भी तरह की उत्तेजना मृतकों को वापस नहीं ला सकती है। मौतों की संख्या पर बहस का कोई मतलब नहीं है..." उन्होंने आगे कहा कि "यह महामारी... ना तो आप इसके बारे में जानते थे और ना ही मैं। हमें इस समय आपके, मेरे और रोगियों के सहयोग की आवश्यकता है।"

बता दें कि बीते 24 घंटों में हरियाणा में 11,504 नए संक्रमण के मामले सामने आए हैं। वहीं 75 लोगों ने कोरोना से हार मान कर मौत को गले लगा लिया। यह आंकड़े सरकार द्वारा बताए गए हैं लेकिन आरोप है कि कई राज्यों ने अपनी स्थिति अपेक्षाकृत बेहतर दिखाने के लिए मौतों की संख्या कम बताई है। इस पर मुख्यमंत्री खट्टर ने कहा, 'हम हर जीवन को बचाने की कोशिश करेंगे। यह कहना बेकार है कि मौतें कम या ज्यादा हैं। यह पूछना सार्थक है कि क्या हम अपने सिस्टम को ठीक कर पा रहे हैं।'