कृषि कानूनोंं का विरोध कर रहे किसानों ने दिल्ली से हरियाणा जाने वाले एक रास्ते को खाली कर दिया है। उनका कहना है कि इस महामारी के वक़्त मरीज़ों औऱ ज़रूरतमंदों तक दवाईयां, ऑक्सीजन और कई आवश्यक चीजों का पहुंचना ज़रूरी है, इसलिए सोनीपत प्रशासन की बैठक में यह फैसला लिया गया है। बैठक में तय हुआ कि दिल्ली पुलिस के साथ समन्वय स्थापित करने के बाद जल्द ही बैरिकेड हटाये जाएंगे। 

संयुक्त किसान मोर्चे का कहना है कि हम ने रास्ते खाली कर दिए हैं लेकिन दिल्ली पुलिस के द्वारा लगाए गए बैरिकेड अब तक नहीं हटे हैं। बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चे के नेताओं ने रविवार को दिल्ली पुलिस से बैरिकेडिंग हटाने का आग्रह भी किया था। 

नेताओं ने कहा कि टिकरी बॉर्डर पर किसानों के धरने पर टीकाकरण और आवश्यक सेवाओं के लिए राहत कैम्प लग गया है और किसानों को मास्क बांटे जा रहे हैं। इस महामारी में प्रोटोकॉल का पालन भी किया गया है। किसान नेताओं ने कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर उनके संघर्ष को 150 दिन पूरे हो चुके हैं और किसान तीनों कृषि कानूनों को रद्द करवाकर ही वापस जाएंगें उससे पहले वह घर नहीं जाएंगे।