सोमवार को एक बार फिर किसानों और सरकार के बीच बातचीत हुई। इस बार भी बैठक में कोई फैसला नहीं लिया गया। किसान अपनी मांगों पर अड़े रहे, वही सरकार भी नहीं झुकी। किसान तीन कृषि कानून को रद्द करने और एमएसपी पर लिखित गारंटी की अपनी मांग पर अड़े रहे।

4 जनवरी को भी 4 घंटे  विज्ञान भवन में बैठक चली और कोई नतीजा नहीं निकला। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा 'कानून वापसी नहीं तो घर वापसी भी नहीं'।

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बैठक में नतीजा न निकलने पर कहा, ताली दोनों हाथों से बजती है। 30 दिसंबर के बाद सोमवार (4 जनवरी) को सरकार और किसानों के बीच आठ दौर की बातचीत हुई और यह बैठक बेनतीजा साबित हुई। किसान और सरकार के बीच एमएसपी को लेकर लिखित गारंटी पर सहमति नहीं हुई। फिलहाल किसान और सरकार 8 जनवरी को अगली बैठक कर चर्चा को आगे बढ़ाएंगे।

सोमवार को हुई बैठक में किसानों ने फिर सरकार का खाना ठुकरा दिया |  किसान अपना खाना खुद लेकर आए थे। करीब 200 लोगों का खाना लंगर से विज्ञान भवन किसानों के लिए लाया  गया था। इससे पहले हुई बैठक में भी किसान अपना खाना लेकर गए थे। उस समय मंत्रियों ने भी किसानों के लंगर का खाना खाया था।