आने वाले दिनों में देश के पांच राज्य, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, असम, केरल और पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं जिसे लेकर चुनाव आयोग ने अपनी तैयारी पूरी कर ली है।

आगामी 6 अप्रेल को तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में एक चरण में मतदान होने हैं। असम में तीन चरणों में मतदान किए जाएंगे तो वहीं पश्चिम बंगाल में सबसे ज्यादा 8 चरणों में वोटिंग होंगे। इन पाँचों राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों के नतीजे 2 मई को घोषित किए जाएंगे।

इसी चुनावी सरगर्मी के बीच मीडिया ने भी अपनी पड़ताल तेज कर दी है और इस क्रम में अमुख मीडिया हाउसों के द्वारा 28 फरवरी से 13 मार्च तक एक सर्वे कराया गया। जिसमें, सभी चुनावी राज्यों की 824 विधानसभा सीटों पर लगभग 52 हज़ार 997 लोगों से बात चित की गई है और इनमें  पश्चिम बंगाल के सबसे अधिक 19 हज़ार 314 लोगों से बात की गई।

सर्वे से जो आंकड़े सामने आए हैं वो बेशक बीजेपी में तनाव का माहौल पैदा कर सकती है। जहाँ  एक तरफ़ बीजेपी बंगाल के सभी 292 सीटों पर जीत का बिगुल फूंकने का दावा कर चुकी है वहीँ दूसरी ओर सी वोटर पोल के नतीजे कुछ और ही कहानी बयां कर रहे हैं। जिसके अनुसार ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को 150 से 166 सीटें मिलने का अनुमान है तो वहीं दूसरे नंबर पर  बीजेपी को 98 से 114 सीट इसके बाद कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन को 23 से 31 वहीं बात अगर अन्य कि करें तो अन्य को तीन से पांच सीटें मिलने का अनुमान है। 

ऐसे मे ये देखना वाकई दिलचस्प होगा कि क्या दीदी एक बार फिर जीत दर्ज कर बंगाल में अपनी हैट्रिक पूरी करने में कामयाब हो पाएगी या इस बार दादा का कमल खिलेगा बंगाल में।