नई दिल्ली: देश की राजधानी दिल्ली में 6 दिन के लॉकडाउन का ऐलान किया जा चुका है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस ऐलान के तुरंत बाद शराब की दुकानों पर भारी भीड़ उमड़ती नज़र आई। शहर के कई ठेको के बाहर शराब के शौकीन शराब खरीदते नज़र आए और इस बीच सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना ही भूल गए। हालांकि कई जगहों पर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए शराब खरीदा जा रहा है लेकिन ज्यादातर ठेकों के बहार सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ती ही दिखाई दे रही है।

पूर्व दिल्ली के आनंद विहार और लक्ष्मी नगर से लेकर साउथ दिल्ली के पॉश इलाकों तक शराब की सभी दुकानों पर भारी भीड़ नज़र आई। एक महिला जो शराब खरीदने के लिए शिवपुरी गीता कॉलोनी के पास वाले ठेके पर पहुंची थी कहती है, 'इंजेक्शन फायदा नहीं करेगा, ये अल्कोहल फायदा करेगी.... मुझे दवाओं से असर नहीं होगा, पैग से असर होगा....'

बता दें कि प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली का हाल बताते हुए कहा कि पिछले 24 घंटों के दौरान दिल्ली में तकरीबन 23,500 केस आए हैं। संक्रमण का दर तेज़ी से बढ़ गया है और बेड की भारी कमी हो रही है। अगर रोज़ाना 25 हजार मरीज आएंगे तो कोई भी व्यवस्था चरमरा जाएगी। उन्होंने आगे कहा कि दिल्ली में आईसीयू बेड भी लगभग खत्म होने की कगार पर पहुंच चुकी है। 100 से भी कम बेड्स बचे हैं और ऑक्सीजन की भी भारी कमी है।

सीएम ने एक वाक्या बताते हुए कहा कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से परसों रात को हादसा होते-होते बचा है। उन्होंने कहा, "दिल्ली में दवाओं की कमी हो रही है। यह सारा तथ्य मैंने आपको डराने के लिए नहीं बताए हैं, यह सारी परिस्थितियां हैं और अगला कदम क्या उठाना है, इस पर चर्चा करने के लिए बात कर रहा हूं।" सीएम ने लोगों कि हौसला अफजा़ई करते हुए कहा कि दिल्ली की पहली भी जीत हुई थी और अब भी होगी।

लेकिन शायद शराब प्रेमियों को यह आंकड़े नहीं सुनाई दिए। सुनाई दिया तो बस यह कि दिल्ली में 6 दिन का लॉकडाउन लगने वाला है, तो हफ्ते भर का कोटा कैसे जमा किया जाए। जिसके चलते एलान होने के तुरंत बाद वह सब नज़दीकी ठेकों की तरफ दौड़ पड़े। देश में कोरोना का कहर आतंक मचा रहा है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना कितना महत्वपूर्ण है, शराबी यह तक भूल गए।