कोरोना का तांडव पूरे हिन्दुस्तान में देखने को मिल रहा है। दिल्ली में दूसरी लहर के फैलने से लोगों की मुश्किलें कम होने का नाम ही नहीं ले रही है। अस्पतालों में हर सामान की क़िल्लत देखी जा सकती है। मरीजों के लिए ना ही बेड मिल रहे हैं ना ही ऑक्सीजन, ऐसे में दिल्ली सरकार ने रविवार को सेना से मदद की उम्मीद जताते हुए कोरोना की लड़ाई में दिल्ली की सहायता के लिए पत्र लिखा है। डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को सेना से मदद के लिए पत्र लिखा है। मनीष सिसोदिया ने कहा " हमने मदद मांगी है क्योंकि इस समय दिल्ली को हर संभव मदद की जरूरत है। हमारे पास ऑक्सीजन की बहुत कमी है साथ ही अगर सेना के पास ऑक्सीजन लाने ले जाने के लिए ट्रक है तो हमें वो भी देने में मदद करें"।

शनिवार को दिल्ली हाई कोर्ट ने दिल्ली में कोरोना की खराब स्थिति को देखते हुए, दिल्ली के अस्पतालों की हालत पर आई याचिकाओं की सुनवाई के दौरान दिल्ली सरकार को जमकर फटकार लगाई। दिल्ली में ऑक्सीजन, बेड एवं मेडिकल के सामान की क़िल्लत पर नाराजगी जताते हुए कोर्ट ने कहा था कि अगर आप सेना से मदद लेते तो वे स्तिथि को सम्हालने की पूरी कोशिश करती। जिसके बाद केजरीवाल सरकार सेना को पत्र लिखने का फैसला किया। दिल्ली में 24 घंटे के अंदर 20000 से ऊपर केस दर्ज किए जा रहे हैं।  वहीं रविवार को मरने वालों की संख्या 400 से ऊपर बताई गई है।