दिल्ली में कोरोना की दूसरी लहर का असर काफ़ी तेजी से फैलता नज़र आ रहा है। बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने लॉकडाउन को भी 3 मई तक बढ़ाने का फैसला लिया था। अस्पतालों में भी लोगों को कई सारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में दिल्ली के मुख्यमंत्री ने इस समस्या से निपटने का एक ही समाधान बताया है, जो कि वैक्सीन है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को प्रैस कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कई चीज़ों का एलान किया, जिसमें उन्होंने कहा कोरोना से निजात पाने का अब एक ही तरीका नज़र आ रहा है, हमें अपनी वैक्सिनेशन प्रक्रिया में तेजी लानी होगी। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लग सके। जिसके बाद उन्होंने ब्रिटेन का उदाहरण दिया और कहा, ब्रिटेन में भी कोरोना बहुत तेजी से फैला था। लेकिन वैक्सीनेशन तेज़ करने पर हालात काबू में आ गए जिसका सबसे बड़ा कारण एक्सपर्ट्स वैक्सीन को मानते हैं। केजरीवाल ने कहा हमने 1.34 करोड़ वैक्सीन खरीदने की मंजूरी दे दी है, हम कोशिश करेंगे कि वैक्सीन जल्द से जल्द खरीदी जाए और लगाई जाएं। 

वैक्सीन के दाम का जिक्र करते हुए केजरीवाल ने कहा, वैक्सीन का एक निर्माता राज्य को 400 रुपए में वैक्सीन बेचता है, वहीं दूसरा निर्माता 600 रुपए में। केंद्र को यह वैक्सीन 150 रुपए में दी जा रही है। उन्होंने वैक्सीन निर्माताओं से निवेदन किया है कि सभी के दाम एक समान करें। यह समय इन्सानियत को मदद करने का है ना कि प्रौफिट कमाने का। साथ ही दिल्ली में 18 साल से ऊपर वालों का टीकाकरण 1 मई से होना है।  जिसके लिए वैक्सीन मुफ्त देने का ऐलान भी किया और कहा इस नई लहर की चपेट में 18 से नीचे के बच्चे और जवान भी आ रहे हैं मैं उम्मीद कर रहा हूँ, उन लोगों के लिए भी जल्द वैक्सीन आए या फीर अगर बच्चों को भी यही वैक्सीन लगाई जा सकती है तो उसकी व्यवस्था की जाए। 

दिल्ली के अस्पतालों में ऑक्सीजन बैंड की कमी को देखते हुए, उन्हें भी बढ़ाने की व्यवस्था की जा रही है। दिल्ली में कोरोना केस 24 घंटे में 20 हजार से भी ऊपर जा रहे हैं वहीं 300 से ज्यादा लोग अपनी जान गवां रहे हैं।