26 जनवरी की लाल किला हिंसा से संबंधित पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू को दिल्ली की एक अदालत ने जमानत दी। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा दर्ज किए गए मामले में दीप सिद्धू को दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट से जमानत मिली। यह एफआईआर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने 26 जनवरी के दिन किसानों की ट्रैक्टर रैली हिंसा के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के मामले में दर्ज की थी।

 

लाल किला हिंसा से संबंधित दो मामलों में दीप सिद्धू के ऊपर एफआईआर दर्ज की गई थी। पहली एफआईआर में उन्हें 9 फरवरी के दिन गिरफ्तार किया गया था। जिसे लेकर 17 अप्रैल के दिन दीप सिद्धू को कोर्ट द्वारा जमानत दी गई थी। जिसके कुछ घंटों बाद ही उन्हें एएसआई द्वारा दर्ज एफआईआर के तहत दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने तिहाड़ जेल से दोबारा गिरफ्तार कर लिया गया। कोर्ट ने यह जमानत 25000 रुपए की निजी मुचलके पर दी।


कोर्ट ने कहा कि आरोपी को 14 दिनों के लिए पुलिस हिरासत में रखा गया था और लगभग 70 दिनों तक हिरासत में रहा। कोर्ट द्वारा पहली एफआईआर में उन्हें जमानत इसलिए दी गई थी क्योंकि इसमें आरोपी सबूतों के खिलाफ हस्तक्षेप नहीं कर सकता क्योंकि ज्यादातर चीजें सोशल मीडिया पर पोस्ट की रिकॉर्डिंग है। विशेष न्यायाधीश नीलोफर आबिदा परवीन ने 30 हजार रुपए के निजी मुचलके और एक समान राशि के दो जमानतदार पेश करने पर दीप सिद्धू की जमानत को मंजूरी दी। कोर्ट ने जमानत को मंजूरी देते हुए दीप को आदेश दिया की वह अपना पासपोर्ट जाँच अधिकारी के पास जमा कराएं और जब भी उनकी आवश्यकता पड़े तो वह अदालत व थाने में मौजूद रहें।