सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। कंपनी द्वारा बनाई गई कोरोना की Covishield Vaccine को गुरुवार को स्विट्जरलैंड और यूरोपीय यूनियन ( EU ) के 7 देशों ने मान्यता दे दी है। इस वैक्सीन को ग्रीन पास स्कीम में शामिल कर दिया गया है। यानी अब भारत में लगी Covishield Vaccine की दोनों डोज लेने वाले व्यक्ति इन देशों में यात्रा करने की अनुमति मिल गई हैं। इन लोगों को कोरोना के नीयमो में छूट दी जाएगी। इस विषय पर पिछले कुछ दिनों से भारत और यूरोपीय यूनियन के बीच अनबन चल रही है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, मंजूरी देने वाले देशों में स्लोवेनिया, जर्मनी, आयरलैंड, ऑस्ट्रिया, स्पेन, ग्रीस, आइसलैंड और स्विट्जरलैंड शामिल हैं।

बता दें, इससे पहले बुधवार को भारत ने यूरोपीय यूनियन को चेतावनी दी थी। सरकार ने कोविशील्ड और कोवैक्सीन को ग्रीन पास स्कीम में शामिल करने को कहा था। कहा गया था कि अगर इन देशों ने हमारी वैक्सीन को ग्रीन पास में शामिल नहीं किया तो हम भी इन सभी देशों के वैक्सीन सर्टिफिकेट को स्वीकार नहीं करेंगे। इन देशों से आने वाले लोगों को क्वारैंटाइन किया जाएगा। यूरोपीय यूनियन ने अपनी ‘ ग्रीन पास ‘ योजना के तहत यात्रा प्रतिबंध में ढील दी है। सूत्रों के अनुसार, भारत ने यूरोपीय यूनियन के 27 देशों से अपील की थी और इस विषय पर अलग-अलग विचार मांगे थे।

विदेश मंत्री एस जयशंकर प्रसाद ने भी मंगलवार को यूरोपीय यूनियन के प्रतिनिधि जोसेफ बोरेल फोंटेलेस के साथ बैठक में इस मुद्दे को उठाया था और Covishield Vaccine को यूरोपीय यूनियन की डिजिटल कोविड सर्टिफिकेट स्कीम में शामिल करने को कहा था।

जानकारी के अनुसार, EU की एजेंसी यूरोपियन मेडिसिन एजेंसी ने कोविशील्ड को मंजूरी देने से पहले सिर्फ चार कोविड वैक्सीन को ही ग्रीन पास के लिए मान्यता दी थी। इनमें मॉडर्ना, बायोएनटेक-फाइजर की कॉमिरनटी, जॉनसन एंड जॉनसन की जानसेन और ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजेनेका की वैक्सजेवरिया शामिल हैं।

गौरतलब है कि 1 जुलाई से EU की डिजिटल कोवीड सर्टिफिकेट योजना ‘ ग्रीन पास ‘ लागू हो गई है। इसके तहत कोरोना के दौरान रजिस्टर्ड वैक्सीन लेने वाले लोगों को ग्रीन पास वाले देशों में जाने की इजाजत होगी। जानकारी के अनुसार, भारत ने यूरोपियन मेडिकल एजेंसी को बताया है कि भारत में वैक्सीनेट हुए लोगों के सर्टिफिकेट को कोविन पोर्टल पर वेरिफाई किया जा सकता है। साथ ही बताया कि भारत में भी और देशों से ग्रीन पास लेकर आने वाले लोगों को अनिवार्य क्वारैंटाइन से छूट दी जाएगी।