आम आदमी पार्टी (आप) के राष्ट्रीय संयोजक व मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कृषि कानूनों के विरोध में रविवार को  जींद में किसान महापंचायत को सम्बोधित किया।हरियाणा के जींद पहुंचे केजरीवाल ने मंच से कहा, "जो किसान आंदोलन के खिलाफ हैं वो देश के गद्दार हैं और जो किसान आंदोलन के साथ हैं वो देशभक्त हैं"। केंद्र [आर निशाना साधते हुए उन्होंने आगे कहा, ''मुझसे नाराज होकर केंद्र सरकार संसद में एक बिल लेकर आयी और दिल्ली में चुनी हुई सरकार की बजाय सारी ताकत LG को दे दी इसलिये किसान आंदोलन का समर्थन करने पर मुझे सजा दे रहे हैं। ये बात बीजेपी के सांसदों ने संसद में कहा था कि किसानों का समर्थन करने के लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को सजा दे रहे हैं। मैं बीजेपी वालों को कहना चाहता हूं कि किसान आंदोलन के लिए मेरी जान भी चली जाए, हम किसी सजा से डरते नहीं हैं।" 

केजरीवाल ने आगे कहा ,''हर देशभक्त का फर्ज है कि किसान आंदोलन का समर्थन करे। मैं किसानों के समर्थन में हर कुर्बानी देने को तैयार हूं। किसान मुझे छोटा भाई, बेटा मानते हैं, मुझे केंद्र सरकार की सजा की परवाह नहीं है। जिंदगी का एक ही सपना है कि भारत को जीते जी नंबर 1 देश बनाना है और हमने 5 साल में दिल्ली बदलकर दिखाई है।"  भगवान से मेरी सेटिंग है, मुझे इस पृथ्वी से तब तक मौत नहीं आएगी, जब तक मैं भारत को दुनिया का नंबर 1 देश न देख लूं। 

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री ने कई बार अनौपचारिक बातचीत व अनेकों तरीके से ये स्पष्ट किया है कि वो कृषि कानूनों का विरोध करते हैं,और किसानों का समर्थन भी करते हैं।  लेकिन इस बार उन्होंने औपचारिक रूप से सेक्टर-9 के हुड्डा पार्क में होने वाली बैठक में पार्टी की राय सामने रखी है। दिल्ली में GNCTD कानून लागू होने के बाद से ही केजरीवाल सरकार के सुर बदल गए हैं। सरकार पूरी तरह से केंद्र सरकार के विरोध में दिखाई देने लगी है।