केंद्र सरकार ने एसआईआई के सीईओ अदार पूनावाला को वाई कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान करने का फैसला किया। यह सुरक्षा पूनावाला के साथ पूरे देश में रहेगी। जिसके तहत उनके साथ सिक्योरिटी फोर्सेज के 11 जवान हमेशा उनके साथ तैनात रहेंगे, जिसमें 2 कमांडो भी शामिल हैं। यह सुरक्षा गृह मंत्रालय द्वारा 28 अप्रैल को एक नोटिस जारी कर पूनावाला को प्रदान की गई।


दरअसल 16 अप्रैल के दिन सीरम इंस्टीट्यूट में सरकार और नियमन कार्य के निर्देशक प्रकाश कुमार सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा। जिसमें उन्होंने कहा की एसआईआई के सीईओ को तरह-तरह की धमकियाँ मिल रही हैं, इसलिए सरकार से आग्रह है कि उन्हें जल्द से जल्द सुरक्षा प्रदान की जाए। देश में कोविड वैक्सीन सप्लाई करने के लिए केवल दो ही कंपनियों को अनुमति है। पहली सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की वैक्सीन कोविशील्ड और दूसरी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन। पूनावाला इसी सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ हैं। 


महाराष्ट्र के पुणे में सीरम इंस्टिट्यूट का कैंपस लगभग 100 एकड़ में फैला हुआ है। जिसमें सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं। गौरतलब है कि गासाइरस के बेटे अदार पूनावाला ने विदेश से अपनी पढ़ाई की है, उसके बाद भारत वापस आ कर अपने पिताजी का बिजनेस संभाला। वह जल्द ही कंपनी के सीईओ की कमान भी संभाली। सीरम इंस्टीट्यूट की तरक्की में अदार की अहम भागीदारी है। 


हाल ही में 28 अप्रैल के दिन ही सीरम इंस्टीट्यूट ने अपने वैक्सीन की एक डोज की कीमत राज्य सरकारों के लिए 400 रुपए से घटाकर 300 रुपए कर दिया है। वहीं दूसरी तरफ केंद्र सरकार के लिए 150 रुपए प्रति डोज की सप्लाई करने का फैसला किया है। अदार पूनावाला ने देश में वैक्सीन उपलब्ध कराने का काम बखूबी किया है। उन्होंने इसे गौरवपूर्ण और ऐतिहासिक पल करार दिया है। उनका कहना है कि "असली चुनौती वैक्सीन को आम जनता, संवेदनशील समूहों और स्वास्थ्य कर्मियों तक पहुंचाना है।"