खबर है राजस्थान से जहां एक तरफ आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी हो चुका है। बसपा सुप्रीमो मायावती ने गहलोत सरकार पर साधा निशाना कहा राजस्थान में राष्ट्रपति शासन लगा देना चाहिए क्योंकि प्रदेश की सरकार लोगों की उम्मीदों पर खरी नहीं उतर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कांग्रेस आदिवासियों और दलितों के उम्मीदों को पूरा करने में विफल है। हालांकि मायावती तो पहले से ही भड़की पड़ी थी लेकिन आपको बता दें कि पाली जिले के बाली बारवां क्षेत्र में संविदा के कर्मचारी जितेंद्र पाल मेघवाल की 15 मार्च को दिनदहाड़े हत्या कर दी गई।

जिसके बाद इस मामले में पुलिस लगातार छानबीन में जुटी हुई है। लेकिन अब तक कोई सुराग मिला नहीं है। हालांकि यह मामला रोज-रोज बढ़ता ही जा रहा है एक अलग ही कड़ी पकड़ता जा रहा है आपको बता दें कि पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया है वही सीएम अशोक गहलोत ने परिवार को एक लाख की आर्थिक मदद की घोषणा भी की है। लेकिन बीएसपी सुप्रीमो के अलग ही बोल हैं उनका कहना है कि प्रदेश में सरकार अच्छे से नहीं चल रही है तो यहां पर राष्ट्रपति शासन लागू होना ही चाहिए। मायावती ने दलितों पर हो रहे अत्याचार और आदिवासियों की आवाज को दबाने की कोशिश की जा रही है ऐसा उन्होंने आरोप लगाया है।

मायावती ने बुधवार को ट्वीट करते हुए कहा कि राजस्थान में कांग्रेस सरकार दलितों व आदिवासियों पर अत्याचार की घटनाओं में बेतहाशा वृद्धि हो रही है जोकि सहने योग्य नहीं है उन्होंने बताया कि हाल ही में डीडवाना और धौलपुर में दलित युवक की ट्रैक्टर से कुचल कर हत्या कर दी गई। इस पर किसी ने कुछ नहीं कहा और ऐसे में एक दलित परिवार के एक युवक की मृत्यु ने उसके परिवार को झकझोर कर रख दिया। लेकिन प्रदेश की सरकार ने कुछ नहीं किया उन्होंने कहा कि इससे यह स्पष्ट होता है कि राजस्थान में खासकर दलितों व आदिवासियों की सुरक्षा करने में वहां की कांग्रेसी सरकार पूरी तरह से असफल हो रही है।

यह उचित होगा (Hindi News) कि इस सरकार को हटाकर वहां राष्ट्रपति शासन लगाया जाए बीएसपी की यह मांग है उसके बाद से मंगलवार को जोधपुर एयरपोर्ट पर मीडिया से मुखातिब होते हुए भीम आर्मी के मुखिया चंद्रशेखर रावण मेरी सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि अगर पुलिस सही काम करती तो यह घटना होती ही नहीं साथ ही उन्होंने कहा कि राजस्थान में कानून व्यवस्था खराब है। और कोई किसी को पूछने वाला नहीं है उन्होंने आरोप लगाया कि दलितों पर लगातार अत्याचार हो रहे हैं। इस तरह की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं रावण ने कहा कि राजस्थान सरकार कानून व्यवस्था के मामले में पूरी तरह असफल है और अब मुख्यमंत्री को इस्तीफा दे देना चाहिए। क्योंकि उनके रहने के बावजूद भी राजस्थान में वृद्धि तो नहीं लेकिन घटनाएं अधिक हो रही हैं।

Read This:

आज के ही दिन भारत में पहली बार लगा था Lockdown Corona Cases

वाराणसी में हुई दर्दनाक घटना लान संचालक की जौनपुर में हत्या

कांग्रेस को लगा बड़ा झटका विक्रमादित्य सिंह ने छोड़ी पार्टी