कोरोना की दूसरी लहर तेज़ी से भारत के हर राज्य पर कब्जा करने की कोशिश कर रही है। इससे बचने के लिए सभी राज्यों की सरकार व्यवस्थाएं करने में लगी हुई है। ऐसे में बिहार के उपमुख्यमंत्री तार किशोर प्रसाद ने बिहार की कोरोना से जंग की रणनीति के बारे में बात करते हुए कहा है कि दूसरे राज्यों से लौट रहे लोगों के जाँच की पूरी व्यवस्था की गई है और पॉजिटिव लोगों को तुरंत क्वारंटाइन किया जाएगा।

दरअसल महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति एक बार फिर से भयानक रूप ले रही है। जिस वजह से लॉकडाउन की आशंका भी बढ़ गई है। जिसे देखते हुए दिहाड़ी मज़दूर एक बार फिर से अपने प्रदेश लौट रहे हैं। इसलिए बिहार सरकार काफ़ी सतर्कता दिखा रही है।

उपमुख्यमंत्री तार किशोर ने कहा है कि बिहार के जो लोग घर वापसी कर रहे हैं उनकी जाँच की पूरी व्यवस्था की जा चुकी है। कोरोना संक्रमित पाए जाने वाले लोगों को तुरंत क्वॉरेंटाइन किया जाएगा। इसके लिए मंडल स्तर पर क्वारंटाइन सेंटर की व्यवस्था भी की जा रही है। उन्होंने यह भी कहा कि आपदा समूह की बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं और उनके जितने भी प्रोटोकॉल्स हैं उसका पालन करने के लिए सरकार प्रतिबद्ध है। 

उपमुख्यमंत्री ने यह भी बताया कि प्रधानमंत्री ने सभी मुख्यमंत्रियों के साथ कोरोना के विषय पर चर्चा की है। 17 अप्रैल को सभी दलों के नेताओं के साथ महामहिम राज्यपाल की अध्यक्षता में बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में चर्चा का विषय कोरोना से बचाव और उसके रूपरेखा की तैयारी होगा।

आपको बता दें कि कोरोना के प्रथम चरण के दौरान भी बिहार सरकार ने उपयुक्त व्यवस्था की थी और इस बार भी उसी स्तर का काम किया जा रहा है।