कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के आठवें और अंतिम चरण का मतदान आज होगा। इसमें 35 विधानसभा सीटों में 84 लाख से अधिक मतदाता 283 से अधिक उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करेंगे। अंतिम चरण के चुनाव में, सभी की निगाहें तृणमूल कांग्रेस के बीरभूम जिला अध्यक्ष अनुब्रत मंडल पर होंगी, जो चुनाव आयोग की कड़ी निगरानी में हैं।

मुर्शिदाबाद और बीरभूम की 11, मालदा में छह और कोलकाता में सात सीटों पर मतदान होगा।

इसके लिए कुल 11 हजार 860 पोलिंग बूथ बनाए गए हैं। तृणमूल कांग्रेस के दो मंत्री शशि पांजा और साधन पांडे क्रमश उत्तरी कोलकाता में श्यामपुकुर और मानिकतला सीटों से मैदान में हैं।

मालदा और मुर्शिदाबाद जिलों में लगभग 17 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला होने की उम्मीद है, जहां टीएमसी और भाजपा के अलावा वाम कांग्रेस आईएसएफ गठबंधन की अच्छी पकड़ है। वही, चुनाव आयोग के एक अधिकारी ने कहा है कि मतदान प्रक्रिया के दौरान कोविद -19 से संबंधित दिशानिर्देशों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

चुनाव अधिकारी ने कहा कि पहले चरण में हुई हिंसा खासकर चौथे चरण के मतदान के दौरान कूच बिहार में पांच लोगों की मौत के घटना के मद्देनजर सुरक्षा व्यवस्था को बढ़ा दिया गया है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग ने आठवें चरण में स्वतंत्र और निष्पक्ष मतदान सुनिश्चित करने के लिए केंद्रीय बलों की कम से कम 641 कंपनियों को तैनात करने का निर्णय लिया है, जिसमें से 224 बीरभूम जिले में तैनात किए जाएंगे।

वहीं राज्य में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं।  राजधानी कलकत्ता के हाल भी दिन-ब-दिन बद-से-बदतर होते जा रहे हैं। इधर राज्य में पॉजिटिविटी रेट्स/मौतों के आंकड़ों में कोई रुकावट नहीं हो रही है। इसके बीच मतदान के समय कोरोना गाइडलाइन का पालन कराना बड़ी चुनौती होगी।