म्यांमार मीडिया के अनुसार, सुरक्षा बलों ने एक दिन में देश में कम से कम 91 लोगों को मार दिया है। ये तख्तापलट के बाद से एक ही दिन में सबसे ज्यादा मौतें हैं। ऑनलाइन समाचार साइट म्यांमार नाउ ने शाम तक के आंकड़े दिए हैं, जिसमें शनिवार को 91 लोगों के मारे जाने की सूचना है।

इससे पहले 14 मार्च को लगभग 74 से 90 लोग मारे गए थे।

वहीं, यंगून में एक स्वतंत्र शोधकर्ता ने कहा कि शनिवार शाम तक 89 लोग मारे गए। ये मौतें म्यांमार के दो दर्जन से अधिक शहरों में हुई हैं। बताया जा रहा है कि शनिवार को मारे गए लोगों में बच्चे भी शामिल हैं।

इन हत्याओं के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर म्यांमार कि पहले से ही व्यापक निंदा हो   रही है। म्यांमार की घटना पर, यूरोपीय संघ के प्रतिनिधिमंडल ने ट्विटर पर कहा, '76 वें म्यांमार सशस्त्र बल दिवस को आतंक और अपमान के दिन के रूप में याद किया जाएगा। बच्चों सहित निहत्थे नागरिकों की हत्या एक ऐसा कार्य है जिसका कोई बचाव नहीं है। '

1 फरवरी को तख्तापलट के द्वारा आन सान सू की की चुनी हुई सरकार के सत्ता से बेदखल होने के बाद से म्यांमार में प्रतिदिन विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।