कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए राजस्थान सरकार ने रविवार देर रात मंत्रीयों की बैठक कि गई। बैठक में राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में 19 अप्रैल से 03 मई तक संपूर्ण लॉकडाउन लगाने का निर्णय लिया। हालांकि इस दौरान ज़रूरी सेवाएं लोगों के लिए खुली रहेंगी। वहीं 19 अप्रैल सुबह 5 बजे से 3 मई सुबह 5 बजे तक जन अनुशासन पखवाड़ा के नाम पर यह लॉकडाउन लगाया गया है, साथ ही कुछ नई गाइडलाइंस जारी की गई हैं।

सरकार द्वारा दी गई कुछ नई गाइडलाइंस -

- लॉकडाउन के दौरान सभी बाजार, कार्यस्थल और प्रतिष्ठान बंद रहेंगे।

- सब्जी, फल, दूध और किराने कि दुकानें शाम 5 बजे तक खुली रहेंगी।

- यात्रा के दौरान 72 घंटे पहले की आरटी पीसीआर टेस्ट दिखाना होगा।

- गैस, पैट्रोल पंप, एलपीजी की सेवा रात 8 बजे तक चालू रहेगी।

- मीडिया कर्मचारियों को आईडी कार्ड दिखाकर आने जाने की अनुमति दी जाएगी।

- रेल , बस, मैट्रो , हवाईजहाज आदि में यात्रा की सुविधाएं खुली रहेंगी।

- होम डिलीवरी के लिए छूट है वहीं कंस्ट्रक्शन वर्क जारी रहेगा ताकि मजूरों का पलायन रोका जा सके। 

- निजी अस्पतालों एवं उससे संबंधित कर्मचारियों को पहचान पत्र दिखाने पर डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ और अन्य चिकित्सा सेवाओं से जुड़े लोगों को अनुमति दी जाएगी।

- बैंकिंग सेवाएं, एटीएम, बीमा कार्यालय खुले रहेंगे।

- विवाह समारोह एवं अंतिम संस्कार से संबंधित गतिविधियां कर्फ़्यू  के दौरान जारी रहेगी पर नियमों के साथ।