भारत में कोरोना वैक्सीनेशन का तीसरा चरण 1 मई से शुरू होने जा रहा है। लेकिन राजस्थान में कुछ मुश्किलात आ गई हैं। सरकार का कहना है कि राज्य में 18 साल से अधिक उम्र वाले लोगों का वैक्सीनेशन 1 मई के बजाय 15 मई से शुरू किया जाएगा।
राजस्थान सरकार ने इसके पीछे का कारण वैक्सीन की सप्लाई में हो रही देरी बताई है। उनका कहना है कि सीरम इंस्टीट्यूट को साढ़े तीन करोड़ वैक्सीन की डोज़ का आर्डर दिया जा चुका है, लेकिन यह कब तक मिलेगा यह अभी तक साफ नहीं हो पाया है।

राज्य सरकार ने केंद्र पर यह आरोप भी लगाया है कि राजस्थान को लगातार वैक्सीन कि सप्लाई नहीं मिल रही है। जिसके कारण 45 से अधिक उम्र वाले करीब एक करोड़ लोगों को अब तक वैक्सीन का टीका नहीं लग पाया है। इसलिए 1 मई से भी 45+ उम्र वाले लोगों को ही टीका लगाया जाएगा। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा के मुताबिक, राजस्थान में कुल सात करोड़ वैक्सीन के डोज़ों की ज़रूरत हैं। सरकार ने सिरम इंस्टीट्यूट को 3.75 करोड़ डोज़ का ऑर्डर दे दिया है। जिसकी सप्लाई 15 मई के आसपास होने की आशंका है।

जानकारी हो कि 1 मई से वैक्सीनेशन का तीसरा चरण शुरू होने जा रहा है। जिसके तहत 18 वर्ष से अधिक उम्र वाले लोगों को टीका लगाना शुरू किया जाएगा। जिसके लिए रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया बुधवार 1 मई शाम 4 बजे से शुरू हो जाएगा।

बता दें कि राजस्थान के अलावा देश के कई और राज्यों से भी वैक्सीनेशन की कमी की ख़बर आई है। जिसके कारण 1 मई से नए चरण के वैक्सीनेशन की शुरुआत करना काफ़ी मुश्किल बताया जा रहा है। इन राज्यों का कहना है कि उनको अभी के हिसाब से वैक्सीन की पूरी डोज़ नहीं मिल पा रही है। वहीं दूसरी तरफ केंद्र का कहना है कि राज्यों के पास एक करोड़ वैक्सीन स्टॉक में हैं। जबकि 80 लाख अगले 3 दिन में डिलीवर करा दिया जाएगा। गौरतलब है कि केंद्र सरकार और राज्य सरकार दोनों ही सच तो नहीं बोल रही है। लेकिन इन सबके बीच हमेशा की तरह इस बार भी आम जनता ही पीस रही है।