कृषि कानूनों के खिलाफ  किसान आंदोलन का आज 18 वां दिन है |  दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन जारी है|  सिंधु, टिकरी, गाजीपुर , चिल्ली  बार्डर पर किसान डटे हुए हैं  | किसान लगातार कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग पर अड़े हुए हैं | वहीं सरकार कानूनों में संशोधन करने के लिए तैयार है|

रविवार को राजस्थान के हजारों किसानों को जयसिंहपुर खेड़ा बार्डर पर रोका गया, भारी मात्रा में सुरक्षा बल तैनात है| किसान नेता राकेश टिकैत ने  कृषि कानूनों को लेकर कहा  " कृषि कानूनों में संशोधन हमें मंजूर नहीं, सरकार को तीनों  कानून वापस लेने होंगे, MSP पर कानून लाए सरकार, दिल्ली में बने बिल किसानों को मंजूर नहीं , सरकार हमें हल्के में न लें|"


दिल्ली में कल आंदोलनकारी किसानों का बड़ा दिन

 सोमवार का दिन दिल्ली में आंदोलनकारी किसानों के लिए बड़ा दिन है | कल किसान संगठनों के नेता सिंधु, टिकरी बार्डर पर  सुबह 8 बजे से शाम 5  बजे तक भूख हड़ताल पर बैठेंगे | इसके साथ ही किसान जयपुर- दिल्ली हाइवे ब्लॉक करेंगे | सरकार अपना इरादा नहीं बदल रही, तो किसानों ने आंदोलन में नया रूख ला दिया | देखना होगा कि  क्या किसानों के भूख हड़ताल से सरकार मानेगी|  


किसानों के सर्मथन में दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल कल भूख हड़ताल करेंगे, दिल्ली सीएम ने पार्टी कार्यकर्ताओं से उपवास करने की अपील की |वहीं आम आदमी पार्टी के नेता गोपाल राय ने कहा - आप किसानों के साथ है, कल हम सभी किसानों के साथ भूख हड़ताल करेंगे|